Shri Hari Stotram Lyrics In Hindi | Meaning | Image

Shri Hari Stotram Lyrics In Hindi is one of the most devotional Stotra. Shree Shri Vishnu is the nearest physical manifestation of Vishnu Purana, who is the world’s supreme God (Formless Parabrahma). Shri Vishnu’s quadrilateral form is very available, and he is pleased with the devotees’ devotion.

Sri Hari Stotram is a hymn written by Swami Brahmananda, one of the great ascetics, in honor of Lord Hari (Vishnu). Regular recitation of this octet will terminate the pangs of birth and old age, and the devotee will attain Hari’s abode, which is free of anguish and suffering.

They keep an eye on the earth and defend it from demonic forces. They’re worried about their devotees and their day-to-day adversaries. Shree Hari’s hymn brings a great sense of calm to the mind. We have also made you available with Shree Hari Stotram Lyrics Image so you can read while reciting.


Shri Hari Stotram Lyrics In Hindi

श्री हरि स्तोत्रम

जगज्जाल पालम् कचत् कण्ठमालं शरच्चन्द्र भालं महादैत्य कालम्।
नभो-नीलकायम् दुरावारमायम् सुपद्मा सहायं भजेऽहं भजेऽहं।1।

सदाम्भोधिवासं गलत्पुष्हासं जगत्सन्निवासं शतादित्यभासम्।
गदाचक्रशस्त्रं लसत्पीत-वस्त्रं हसच्चारु-वक्रं भजेऽहं भजेऽहं।2।

रमाकण्ठहारं श्रुतिवातसारं जलान्तर्विहारं धराभारहारम्।
चिदानन्दरूपं मनोज्ञस्वरूपं धृतानेकरूपं भजेऽहं भजेऽहं।3।

जराजन्महीनम् परानन्द पीनम् समाधान लीनं सदैवानवीनम्।
जगज्जन्म हेतुं सुरानीककेतुम् त्रिलोकैकसेतुं भजेऽहं भजेऽहं।4।

कृताम्नाय गानम् खगाधीशयानं विमुक्तेर्निदानं हरारातिमानम्।
स्वभक्तानुकूलम् जगद्दृक्षमूलम् निरस्तार्तशूलम् भजेऽहं भजेऽहं।5।

समस्तामरेशम् द्विरेफाभ केशं जगद्विम्बलेशम् हृदाकाशदेशम्।
सदा दिव्यदेहं विमुक्ताखिलेहम् सुवैकुन्ठगेहं भजेऽहं भजेऽहं।6।

सुराली-बलिष्ठं त्रिलोकीवरिष्ठं गुरूणां गरिष्ठं स्वरूपैकनिष्ठम्।
सदा युद्धधीरं महावीर वीरम् महाम्भोधि तीरम् भजेऽहं भजेऽहं।7।

रमावामभागम् तलनग्ननागम् कृताधीनयागम् गतारागरागम्।
मुनीन्द्रैः सुगीतं सुरैः संपरीतं गुणौगैरतीतं भजेऽहं भजेऽहं।8।

फलश्रुतिः-

इदम् यस्तु नित्यं समाधाय चित्तम् पठेदष्टकम् कष्टहारं मुरारेः।
स विष्णोर्विशोकं ध्रुवम् याति लोकम् जराजन्म शोकं पुनर्विदन्ते नो।।

Sri Hari Stotram Lyrics Video In Hindi


Shri Hari Stotram In Hindi Meaning

जो पूरी पृथ्वी के रक्षक हैं, जो अपनी गर्दन के चारों ओर एक शानदार हार पहनते हैं, जिनके माथे शरद ऋतु के चंद्रमा की तरह चमकते हैं, और जो महादित्य के मौसम के दौरान रहते हैं। मैं नियमित रूप से भगवान की पूजा करता हूं, जैसे मैं नाभि (आकाश) की पूजा करता हूं, अजेय मायावी शक्तियों का स्वामी, और देवी लक्ष्मी, उनके साथी। 1 |

जो हर समय समुद्र के किनारे रहते हैं, जिनकी मुस्कान एक खिलते हुए फूल की तरह होती है, और जो पूरी दुनिया में रहते हैं, वे सौ सूरज लगते हैं। मैं भगवान विष्णु से प्यार करता हूं, जो पीले रंग के कपड़े पहने हुए हैं, उनके चेहरे पर एक प्यारी सी मुस्कान है और एक गदा, चक्र, और तीर का उत्पादन करता है। 2 |

किसकी हार देवी लक्ष्मी का प्रतीक है, वेद वाणी की प्रकृति, जो पानी के माध्यम से उड़ती है और पृथ्वी का भार सहन करती है? मैं भगवान विष्णु की पूजा करता हूं, जिन्होंने कई रूप धारण किए हैं, क्योंकि उनका हमेशा आनंदित रूप है और वह मन को आकर्षित करते हैं। 3 |

जो लोग जन्म और उम्र से मुक्त हैं, परमानंद से भरे हुए हैं, जिनका दिमाग अभी भी स्थिर और शांत है, और जो हर समय नए (नए) दिखाई देते हैं। मैं भगवान विष्णु से प्रार्थना करता हूं कि वे उन लोगों के लिए और जो इस दुनिया के जन्म के कारक हैं, देवताओं की सेना के रक्षक और तीनों लोकों के बीच सेतु हैं। 4 |

जो वेद गाते हैं, वे जो पक्षीराज गरुड़ की सवारी करते हैं, वे जो मुक्तिदाता हैं, और जो दुश्मनों का सम्मान करते हैं। मैं भगवान विष्णु का पालन करता हूं, जो अपने भक्तों के प्रिय हैं, जो जगत रूपी वृक्ष की जड़ हैं, और जो सभी दुखों को दूर करते हैं। 5 |

काली रंग के बाल (बाल) के साथ शहद मधुमक्खी की तरह है, पृथ्वी उसके शरीर के हिस्से के रूप में, और एक शरीर जो उन सभी देवताओं के स्वामी के रूप में आकाश के रूप में स्पष्ट है। मैं भगवान विष्णु की पूजा करता हूं, जो बैकुंठ में निवास करते हैं, क्योंकि उनका शरीर (शरीर) हमेशा पवित्र और पृथ्वी की बंधनों से मुक्त है। 6 |

त्रिलोकियों में श्रेष्ठ, जिनके सुर (देवताओं) के समान प्रकार हैं, वे हैं जो सुरों (देवताओं) (परमात्मा या परब्रह्म रूप) में सबसे शक्तिशाली हैं। मैं भगवान विष्णु से उन लोगों के लिए नियमित रूप से प्रार्थना करता हूं जो युद्ध में हमेशा बहादुर होते हैं, जो रईसों के बीच भी बहादुर होते हैं, और जो समुद्र के किनारे रहते हैं। 7 |

जिसका बायाँ (बायाँ) भाग लक्ष्मी विराजित है, जो नग्न नागों पर विराजमान है, जो यज्ञों से प्राप्त किया जा सकता है और राग-मुक्त है। मैं भगवान विष्णु का एक नियमित भक्त हूं, जिनके संत सेवा करने वाले देवताओं के बारे में गीत गाते हैं और जो सद्गुणों से ऊपर हैं। 8 |


Shri Hari Stotram Lyrics Image

Shri Hari Stotram Lyrics In Hindi | Meaning | Image


Shri Hari Stotram Lyrics In English

Jagajjalapalam Kachad Kanda Malam,
Sarahandraphalam Mahadaithyakalam,
Nabho Neelakayam Duravaramayam,
Supadmasahayam Bajeham Bajeham.

Sadambhodhi Vasam Galathpushpahasam,
Jagatsannivasam Sathadhithyabhasam,
Gadhachakra Sastram Lasad Peetha Vasthram,
Hasacharu Vakthram Bajeham Bajeham.

Ramakantaharam Sruthivrathasaram,
Jalantharviharam Dharabharaharam,
Chidanandaroopam Manogna Swaroopam,
Druthaneka Roopam Bajeham Bajeham.

Jarajanma Heenam Parananda Peetham,
Samadana Leenam Sadaivanaveetham,
Jagajjanma Hethum Suraneeka Kethum,
Trilokaika Sethum Bajeham Bajeham.

Kruthamnayaganam Khagadhisayanam,
Vimukthernidhanam Hararadhimanam,
Swabakthanukoolam Jagadvrukshamoolam,
Nirastharthasoolam Bajeham Bajeham.

Samasthamaresam Dwirephabha Klesam,
Jagat Bimba Lesam Hrudakasa Desam,
Sada Divya Deham Vimukthakhileham,
Suvaikuntageham Bajeham Bajeham.

Suralibalishtam Trilokivarishtam,
Gurannangarishtam Swaroopaikanishtam,
Sadyudhadheeram Mahaveeraveeram,
Bhambhoditheeram Bajeham Bajeham.

Ramavamabhagam Thalanagna Nagam,
Kruthadeethayagam Gatharagaragam,
Muneendrai Sugeetham Surai Sapareeham,
Ganougairaathetham Bajeham Bajeham.


When to perform Shri Hari Stotram?

Shri Hari Stotram we need to chant on the fourth day of the week. Thursday, the worship of Shri Hari Vishnu Ji is considered to have special significance. Due to which his devotees are busy worshiping him in a special way to please him. Because it is believed that the person who worships Shri Hari on this day gets his immense grace. Along with this, most people will know that on this day, the belief of offering yellow-colored sweets or offering them is also prevalent because yellow color is more dear to them.

But apart from all this, there is one thing, which is considered essential in the worship of Lord Vishnu. Yes, you are thinking absolutely right. We are talking about Shri Hari’s favorite Tulsi. According to astrology, if it is not used in worship, then the worship is considered incomplete.

Therefore, if you are worshiping Shri Hari, then keep in mind that during this time you must offer Tulsi to him. Also, recite the following Tulsi Stotra. It is believed that it gives double the fruits of worship. It has been said in the Puranas that there is never any trouble in the house where there is Tulsi.

So, according to Padma Purana, by reciting Tulsi Stotra while awakening on the night of Dwadashi, Lord Vishnu forgives all the crimes of the native. Along with this, it is also said that worshiping Tulsi never leads to premature death in the house.

Leave a Comment

x
You cannot copy content of this page